बुलडोज़र राज के खिलाफ गांव-गरीबों के बीच व्यापक अभियान चलाने का संकल्प: माले

बुलडोज़र राज के खिलाफ गांव-गरीबों के बीच व्यापक अभियान चलाने का संकल्प। भूमिहीनों और आवास विहीन परिवारों का व्यापक सर्वे कराए सरकार, नया वास आवास कानून बनाये सरकार। भाकपा माले के जिला सम्मेलन की तैयारी शुरू, प्रखंडों के बाद जिला सम्मेलन होगा। 1 लाख 50 हज़ार गांव के गरीबों-ग्रामीण मज़दूरों के बीच खेग्रामस का सदस्य बनाने का अभियान तेज, भाकपा माले की दो दिवसीय बैठक सम्पन्न।

दरभंगा: भाकपा(माले) जिला कमिटी की दो दिवसीय बैठक सदर प्रखंड के कंशी पंचायत के चक्का गांव में शुक्रवार को देर रात सम्पन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता भाकपा(माले) जिला सचिव बैद्यनाथ यादव कर रहे थे। आज दूसरे दिन बैठक को संबोधित करते हुए भाकपा(माले) पोलित ब्यूरो सदस्य सह खेग्रामस राष्ट्रीय महासचिव धीरेन्द्र झा ने कहा कि नीति आयोग की रिपोर्ट में बिहार फिसड्डी साबित हुई है। गांव के अंदर जो वास-आवास व मनरेगा में कामकाज व बड़े पैमाने पर गरीबो को राशन से वंचित किया गया है। इन सब मसले पर सरकार का कोई ध्यान नही है। आगे उन्होंने कहा कि बिहार में दलित-गरीबो को वास-आवास देने में विफल सरकार आज दलित-गरीबो पर बुलडोजर चलाने की बात कर रही है।
उन्होंने कहा कि आज गांव-गरीबो का सबसे बड़ा सवाल मंहगाई, बेरोजगारी है। लेकिन सरकार मंहगाई बेरोजगारी पर बात करने के बजाय आज दलित-गरीबो के घर पर बुलडोजर चलाने की बात कर रही है। जिसे बिहार के दलित-गरीब बर्दाश्त नही करेंगे और सरकार के बुल्डोजर का जबाब दलित-गरीब अपने एकजुटता से देंगे। श्री झा ने आगे कहा कि गांव-गांव में अभियान चलाकर भूमिहीनों और वास आवास विहीन परिवारों का व्यापक सर्वे अभियान सरकार को चलाना चाहिए और नया वास्-आवास कानून अविलम्ब सरकार को बनाकर दलित-गरीबो के बीच वास-आवास वितरण करने की गारंटी करनी होगी।

वहीं, भाकपा(माले) जिला सचिव बैद्यनाथ यादव ने कहा कि बैठक में पार्टी कामकाज को और विस्तार करने, लोकल सम्मलेन, प्रखंड सम्मेलन पर ठोस बातचीत की गई और जल्द से जल्द प्रखंड सम्मेलन करने पर विचार विमर्श किया गया है। उन्होंने कहा कि जुलाई महीने में जिला सम्मेलन आयोजित की जाएगी। 1.50 लाख गरीबो, ग्रामीण मजदूरों के बीच खेग्रामस का सदस्यता अभियान चलाया जाएगा। बैठक में आर के सहनी, अभिषेक कुमार, नेयाज अहमद, अशोक पासवान, प्रो. कल्याण भारती, नंदलाल ठाकुर, जंगी यादव, अवधेश सिंह, पप्पू पासवान, ललन पासवान, प्रिंस राज, सत्यनारायण मुखिया, हरि पासवान, देवेन्द्र कुमार, मोहम्मद जमालुद्दीन, केशरी यादव, सूर्य नारायण शर्मा, उमेश साह, देवेन्द्र कुमार सहित कई लोग शामिल थे।