दरभंगा: ख़ुदाबख़्श लाईब्रेरी मामले पर ‘इंसाफ मंच’ का नीतीश सरकार के ख़िलाफ़ प्रतिवाद मार्च

ऐतिहासिक धरोहर खुदाबख़्श लाईब्रेरी को कथित तौर पर तोड़ने की सरकारी कोशिश के ख़िलाफ़ इंसाफ मंच ने निकाला प्रतिवाद मार्च!

स्वंत्रता संग्राम के प्रतीकों से भाजपा को डर लगता है, इसलिए खुदाबख्श लाइब्रेरी पर हो रहा है हमला – अभिषेक कुमार

खुदाबख्श लाइब्रेरी को तोड़ने के बजाय वैकल्पिक व्यवस्था पर विचार करें नीतीश सरकार- नेयाज अहमद

दरभंगा, (शिवधारा) 17 अप्रैल 2021:- ऐतिहासिक धरोहर के रूप में स्थापित खुदाबख्श लाइब्रेरी के एक हिस्से को कथित तौर पर फ्लाईओवर बनाने के नाम पर नीतीश सरकार द्वारा तोड़ने की हो रही साजिश के खिलाफ इंसाफ मंच की दरभंगा जिला कमिटी के बैनर तले लक्की ट्रेडर्स से शिवधारा बाजार समिति चौक तक प्रतिवाद मार्च निकाला गया। प्रतिवाद मार्च का नेतृत्व इंसाफ मंच के प्रदेश उपाध्यक्ष नेयाज अहमद, मो जमशेद, सरपंच मो शफिउर रहमान व मनोज पासवान ने किया।

बाजार समिति चौक पर मो जमशेद की अध्यक्षता में आयोजित सभा को सम्बोधित करते हुए भाकपा(माले) के राज्य कमिटी सदस्य अभिषेक कुमार ने कहा कि खुदाबख्श लाइब्रेरी के एक हिस्से को तोड़ने का नीतीश सरकार का फैसला स्वंत्रता संग्राम के प्रतीकों व ऐतिहासिक धरोहरों पर हमला है। भाजपा-संघ परिवार जिसका इतिहास देश की आजादी के लिए हुए आंदोलन में गद्दारी करने का रहा है, और उसी भाजपा के गोद में बैठकर अब नीतीश सरकार को भी ऐतिहासिक धरोहरों व स्वंत्रता आंदोलन के प्रतीकों से डर लग रहा है, इसी लिए ये सरकार इन प्रतीकों को तोड़ना-मिटाना चाहती है पर, ये हम मिटाने नहीं देंगे।

इंसाफ मंच के प्रदेश उपाध्यक्ष नेयाज अहमद ने कहा फ्लाईओवर के नाम पर खुदाबख्श लाइब्रेरी का एक हिस्सा कर्जन रीडिंग रूम को तोड़ने के बदले वैकल्पिक व्यवस्था पर विचार करना होगा। नहीं तो नागरिक आंदोलन तेज होगा। प्रतिवाद सभा को आइसा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य संदीप कुमार, मनोज पासवान, संतोष यादव, मो सहजाद, किशन कुमार, मो तौहिद, मो अनवर अली, मो सलाउद्दीन व मो अरमान आदि ने भी सम्बोधित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here